Present, Past, Future, hindi quotes, mithilesh ki suktiya

by 23:27 0 comments
भविष्य के अत्यधिक सपने और भूत के पलों का जब-तब गौरव गान आपके वर्तमान को शनैः शनैः नष्ट कर देता है।
-मिथिलेश 'अनभिज्ञ'

Bhavishya ke atyadhik sapne aur bhoot ke palo ka jab tab gaurav gaan aapke vartmaan ko shanai shanai nasht kar deta hai.
- Mithilesh 'anbhigya'
Present, Past, Future, hindi quotes, mithilesh ki suktiya

Mithilesh singh

Author, Journalist, Entrepreneur

मिथिलेश पिछले 6 साल से वेबसाइट, सोशल मीडिया के क्षेत्र में अपनी सेवायें दे रहे हैं। एक कलमकार के तौर पर लेख, कहानी, कविता इत्यादि विधाओं में निरंतर लेखन और समाज, परिवार के प्रति संवेदनशील विचार-मंथन उनकी प्रवृत्ति है। विभिन्न अख़बारों, पत्रिकाओं के संपादक-मंडल में अलग-अलग समय पर शामिल रहे हैं तो तकनीक के माध्यम को वह आज की लेखन दुनिया के लिए आवश्यक मानते हुए ब्लॉगिंग, सोशल मीडिया इत्यादि क्षेत्रों से साम्य बनाने में जुटे रहते हैं।

0 comments:

Post a Comment