चरित्र की परख - Recognition of character

by 15:53 0 comments
'विष्णुवत' चरित्र की परख के लिए, 'भृगुवत' धृष्टता असाधारण मार्ग है।
-मिथिलेश 'अनभिज्ञ'

vishnuwat charitra ki parakh ke liye, bhriguwat dhrishthta asadharan marg hai.
- mithilesh anbhigya
Recognition of character

Mithilesh singh

Author, Journalist, Entrepreneur

मिथिलेश पिछले 6 साल से वेबसाइट, सोशल मीडिया के क्षेत्र में अपनी सेवायें दे रहे हैं। एक कलमकार के तौर पर लेख, कहानी, कविता इत्यादि विधाओं में निरंतर लेखन और समाज, परिवार के प्रति संवेदनशील विचार-मंथन उनकी प्रवृत्ति है। विभिन्न अख़बारों, पत्रिकाओं के संपादक-मंडल में अलग-अलग समय पर शामिल रहे हैं तो तकनीक के माध्यम को वह आज की लेखन दुनिया के लिए आवश्यक मानते हुए ब्लॉगिंग, सोशल मीडिया इत्यादि क्षेत्रों से साम्य बनाने में जुटे रहते हैं।

0 comments:

Post a Comment