Karm, fal, doing, results, nishkam karm, sorrow, happiness, self confidence

by 19:52 0 comments
Karm, fal, doing, results, nishkam karm, sorrow, happiness, self confidence

फल की इच्छा से किया गया कर्म, न प्राप्त होने की स्थिति में 'दुःख' और इच्छित फल प्राप्त होने की दशा में 'अहम्' की उत्पत्ति करता है। जबकि निष्काम कर्म से आत्म विश्वास में निरन्तर बृद्धि होती है।
_ मिथिलेश 'अनभिज्ञ'

Karm, fal, doing, results, nishkam karm, sorrow, happiness, self confidence

Mithilesh singh

Author, Journalist, Entrepreneur

मिथिलेश पिछले 6 साल से वेबसाइट, सोशल मीडिया के क्षेत्र में अपनी सेवायें दे रहे हैं। एक कलमकार के तौर पर लेख, कहानी, कविता इत्यादि विधाओं में निरंतर लेखन और समाज, परिवार के प्रति संवेदनशील विचार-मंथन उनकी प्रवृत्ति है। विभिन्न अख़बारों, पत्रिकाओं के संपादक-मंडल में अलग-अलग समय पर शामिल रहे हैं तो तकनीक के माध्यम को वह आज की लेखन दुनिया के लिए आवश्यक मानते हुए ब्लॉगिंग, सोशल मीडिया इत्यादि क्षेत्रों से साम्य बनाने में जुटे रहते हैं।

0 comments:

Post a Comment